नौकरी लगवाने के नाम पर आठ लाख रुपए ठगने के मामले में मुख्य आरोपित गिरफ्तार।

0 minutes, 0 seconds Read
Spread the love

दक्ष दर्पण समाचार सेवा

चंडीगढ़

नौकरी का झांसा देकर आठ लाख रुपए की ठगी करने के मामले में थाना सदर नारनौल की पुलिस टीम ने एक आरोपित को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने केंद्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा पाली महेंद्रगढ़ में क्लर्क के पद पर नौकरी लगवाने के नाम पर फर्जी कागजात तैयार कर शिकायतकर्ता से आठ लाख रुपए ठग लिए थे। गिरफ्तार आरोपित की पहचान आदित्य वासी जनता कॉलोनी रोहतक के रूप में हुई है। आरोपित को न्यायालय में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया गया है।

पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि यशपाल वासी थाना ने थाना सदर नारनौल में शिकायत दर्ज कराई कि केंद्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा पाली महेंद्रगढ़ में क्लर्क के पद पर नौकरी लगवाने के नाम पर उसके साथ आठ लाख रुपए की ठगी की गई है। उसने बताया कि उसका संपर्क गांव ब्राह्मणवास नौ के नरेश कुमार और शीशराम से है, जो कि रोहतक की जनता कॉलोनी निवासी आदित्य की जान पहचान वाले हैं। आदित्य ने मई 2022 में पहली बार टोकन मनी के रूप में उससे दो लाख 50 हजार रुपये लिए। उसके बाद आदित्य ने 17 जून 2022 को उसके फोन नंबर पर एक गूगल मीट का लिंक भेजकर उसका इंटरव्यू करवाया तथा यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन से संबंधित सवाल किए गए। इंटरव्यू खत्म होने पर आदित्य ने उसको रोहतक के रेस्ट हाउस में बुलाकर तीन लाख रुपये लाने के लिए कहा। दिनांक 29 जून 2022 को उसने चरित्र प्रमाण पत्र मांगा और फिर पुलिस वेरिफिकेशन करवाया। इसके बाद आदित्य ने फाइनेंस ऑफिसर सेंट्रल यूनिवर्सिटी हरियाणा महेंद्रगढ़ के नाम 450 रुपये का डीडी बनवाने के लिए बोला। दिनांक 5 जुलाई 2022 को पुलिस वेरीफिकेशन सर्टिफिकेट वेरीफाई होने पर उसने आदित्य के वाट्सअप पर फोटो भेजी। इसके बाद आदित्य ने रोहतक के होटल में किसी व्यक्ति के नंबर भेजकर उससे मिलने के लिए कहा। उस दिन उसके साथ गांव गुवानी का हरीश कुमार भी गया था। उन्होंने 29 जुलाई 2022 को ज्वाइनिंग के लिए कहा और सीयू रजिस्ट्रार के नाम से उसके पास मेल भेजी। 10 अगस्त को कार्य ग्रहण करने का आदेश दिया। इसके बाद वह विश्वविद्यालय गया तो वहां कोई नहीं आया। इस पर उसे लॉ डिपार्टमेंट में जाने के लिए कहा। वहां पहुंचने पर उसे एक एप्लीकेशन लिखने और फिर मेल करने के लिए कहा। इसके बाद उसे ट्रेनिंग के लिए करनाल जाने की बात कही गई। अगले दिन वह करनाल जाने लगा तो दादरी के बीच आदित्य ने फोन किया कि वह रोहतक में एक होटल में पहुंचे। वहां उन्होंने कहा कि उसका प्रशिक्षण अब सेंट्रल यूनिवर्सिटी में ही होगा और अगले दिन ही हम वापस आ गए। ऐसे करके आदित्य ने कई उसे बार यूनिवर्सिटी बुलाया। इस प्रकार उसने कई जगह उसके चक्कर लगवाए। उसे शक हुआ तो उसने आठ लाख रुपये वापस मांगे तो उसने कभी आज तो कभी कल देने के लिए कहा लेकिन उसे पैसे नहीं मिले। शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी।

मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी करने के मुख्य आरोपित आदित्य को गिरफ्तार कर लिया है। जिसे न्यायालय में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया गया है। पुलिस द्वारा आरोपित से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण ने जिला वासियों से अपील की है कि किसी भी अनजान व्यक्ति या सोशल मीडिया साइटों पर अपने दस्तावेज अपलोड ना करें। सरकारी अथवा प्राइवेट नौकरी में रिक्त पदों की भर्ती के लिए संबंधित विभाग की वेबसाइट या संबंधित विभाग के अधिकारी से ही संपर्क करें। सरकारी पदों और प्राइवेट कंपनियों में नौकरी लगवाने का झांसा देने वाले ठगों से बचें और नौकरी लगवाने के नाम पर पैसों का लेनदेन ना करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *