उत्तराखंड : मौसम विभाग ने 10 मई तक का मौसम पूर्वानुमान जारी।उत्तराखंड में गर्जन के साथ आकाशीय बिजली गिरने और ओलावृष्टि होने की संभावना।

0 minutes, 0 seconds Read
Spread the love

शगुफ्ता परवीन

दक्ष दर्पण समाचार सेवा

देहरादून: उत्तराखंड के पर्वतीय जनपदों में मौसम का मिजाज अभी भी बिगड़ा हुआ है। पिछले कई दिनों से हो रही लगातार बरसात.बर्फबारी और ओलावृष्टि के बीच कहीं-कहीं सड़क पर मलबा आने से यातायात भी अवरुद्ध हुआ है। गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग मरगांव के पास मलबा व पत्थर आने के कारण मार्ग बाधित होने से यातायात संचालन में रुकावट आई है।

वही यातायात सुचारू करने के लिए एजेंसियां लगी हुई है। इस बीच मौसम विभाग ने 10 मई तक मौसम पूर्वानुमान जारी करते हुए उत्तराखंड राज्य के जनपदों में मौसम शुष्क रहने की बात कही है जबकि 8 मई को येलो अलर्ट जारी करते हुए राज्य के उत्तरकाशी. रुद्रप्रयाग. चमोली बागेश्वर. अल्मोड़ा तथा पिथौरागढ़ जनपदों में कहीं-कहीं गर्जन के साथ आकाशीय बिजली गिरने और ओलावृष्टि होने की संभावना मौसम विभाग ने व्यक्त की है।

मौसम विभाग ने मई से 9 मई तक जो मौसम का पूर्वानुमान जारी किया है उसके अनुसार राज्य के उत्तरकाशी. रुद्रप्रयाग. चमोली और पिथौरागढ़ जनपद में वर्षा होने की संभावना है। वही 10 मई को राज्य के सभी जनपदों में मौसम शुष्क रहने की बात मौसम विभाग कर रहा है जिसके चलते पर्वतीय क्षेत्रों में मौसम में ठंडक जारी रहेगी।

मौसम विभाग ने 8 मई के लिए येलो अलर्ट के तहत बिजली गिरने से जानमाल की हानि होने खुले स्थानों पर ओलावृष्टि से लोगों को और मवेशियों को घायल होने से सचेत रहने तथा फसलों को नुकसान होने की संभावना को देखते हुए विशेष एहतियात बरतने की बात कही है।।

इस बीच नैनीताल ज्यूलीकोट में 22 मिलीमीटर चलथी में 9.5 यमकेश्वर में 8. 5 पुरौल में 06 बस्तीया में 05 नैनीताल भीमताल में 04 केदारनाथ में 03 कर्णप्रयाग नीलकंठ में 2.5 मिलीमीटर बरसात रिकार्ड की गई है।

Similar Posts

देश मे कांग्रेस थी, है और हमेशा रहेगी, कुछ समय के लिए बादलों से सूर्य ढक जाने को सूर्यास्त नही कहते : सुनीता वर्मा। ईवीएम सॉफ्ट वेयर की प्रोग्रामिंग में कोई खेला तो नही है? मतदाता की इस शंका का समाधान कौन करेगा? अन्यथा बदलाव की इतनी प्रचंड हवा के रुख के बाद भी ये अप्रत्याशित चुनावी परिणाम क्यों? बीजेपी कॉर्पोरेट, पैसा, मीडिया, एजेंसियों और ब्यूरोक्रेसी को साथ लेकर चुनाव में गई और फिर भी कांग्रेस ने अपनी मज़बूत मौजूदगी दर्ज कराई ये इतना आसान भी नहीं था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *