भारत है युवाओं का देश, जिनमें नेतृत्व किए जाने की है क्षमता- रेखा आर्या।Y-20 सम्मेलन में देश-विदेश के ढाई सौ प्रतिनिधि ले रहे हैं भाग,कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने Y-20 को राज्य के लिए बताया ऐतिहासिक।Y-20 सम्मेलन में देश-विदेश के ढाई सौ प्रतिनिधि ले रहे हैं भाग,कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने Y-20 को राज्य के लिए बताया ऐतिहासिक

0 minutes, 3 seconds Read
Spread the love

O

शगुफ्ता परवीन

दक्ष दर्पण समाचार सेवा

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या

ऋषिकेश: युवाओं का देश है, जिनमें नेतृत्व किए जाने की क्षमता है, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने युवाओं के दम पर भारत को विकसित देशों की श्रृंखला में खड़े किए जाने का संकल्प लिया है। उक्त बातें आज कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने भारत सरकार के युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय के तत्वाधान में आयोजित दो दिवसीय ‌एम्स, ऋषिकेश में “यूथ -20 कन्सल्टेशन इवेन्ट” जिसमें देश विदेश के लगभग ढाई सौ प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं का शुभारंभ करने के उपरांत कहीं। इस कार्यक्रम का शुभारंभ कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने दीप प्रज्वलित कर किया।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि भारत आज विभिन्न चुनौतियों से जूझ रहा है, लेकिन उसके बावजूद प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत को जी-20, वाई 20 जैसे सम्मेलनों की अध्यक्षता किए जाने का मौका मिला है, यह भारत के लिए गौरव की बात है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वैश्विक चुनौतियों से जूझते भारत को इस प्रकार के सम्मेलनों से उनका समाधान किए जाने का रास्ता निकलेगा।उन्होंने कहा कि Y-20 युवाओं से जुड़े मामलों का समूह है, जिसमें दुनिया की 20 बड़ी एवं उन्नत अर्थव्यवस्था अर्थात G-20 का का प्रतिनिधित्व करती है।

उन्होंने कहा कि Y-20 निश्चित रूप से हमें ऐसा मंच उपलब्ध कराता है, जहां वैश्विक स्तर के युवा नेताओं द्वारा वैश्विक मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के साथ ही वैश्विक चुनौतियों एवं महत्वपूर्ण विषयों पर विचार-विमर्श कर स्वस्थ परिचर्चा के माध्यम से आम सहमति से अनुकूलतम निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकेगा।भारत के लिए प्रथम बार G-20 की अध्यक्षता करना गौरव का विषय है। भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ से प्रारम्भ हुए आजादी के अमृत काल में इस अवसर से निश्चित रूप से भारतीय लोकतंत्र को मजबूती प्राप्त हुई है। कहा कि भारत सदैव से ही वसुधैव कुटुम्बकम के सिद्धान्त पर आगे बढ़ता रहा है ।वसुधैव कुटुम्बकम की इसी परम्परा ने भारत को विभिन्न चुनौतियों का व्यवहारिक समाधान खोजने तथा वैश्विक समग्र कल्याण को बढ़ाने हेतु महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए हम आज यहां Y-20 संवाद हेतु एकत्रित हुए हैं, यह संवाद निश्चित रूप से वैश्विक युवा नेतृत्व को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा। भारत का यह प्रयास है कि वैश्विक युवा नेतृत्व एवं साझेदारी को और अधिक प्रगाढ़ किया जाए, जिससे युवा साथ आकर प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से आ रही चुनौतियों का समग्र प्रयासों से सामना कर स्वस्थ एवं शान्त वैश्विक पटल भावी पीढ़ियों हेतु रख सकें।

उन्होंने कहा कि Y-20 इण्डिया के साझेदार के रूप में एम्स ऋषिकेश में सम्मेलन की थीम हेल्थ वैलनेस एंड स्पोर्ट्स है, जिसमें निश्चित रूप से ही इन क्षेत्रों में विशेषज्ञ पैनेलिस्टों द्वारा विगत 08 सप्ताह से राज्य में विभिन्न रनअप इवेन्ट के माध्यम से स्थानीय संस्थाओं में की जा रही परिचर्चाओं के परिणामों पर मन्थन किया जायेगा एवं एक सार्वभौमिक तथा सार्वगर्भित हल प्राप्त करने में सफलता प्राप्त होगी।

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि सरकार खेलो को। बढ़ावा देने के लिए विशेष प्रयास कर रही है। बीते 01 वर्ष में राज्य सरकार द्वारा युवाओं के स्वास्थ, संवर्द्धन हेतु खेलों को विशेष आयाम देने हेतु प्रयास किये गये हैं, जिसके अन्तर्गत खिलाड़ियों को उच्च स्तरीय खेल अवस्थापना सुविधाएं प्रदान किये जाने एवं खेल संस्कृति को बढावा देने के उद्देश्य से विभिन्न जनपदीय स्टेडियमों में 37 खेल अवस्थापना सुविधाएं सृजित की जा रही है, जिस हेतु रू0 209.91 करोड़ की धनराशि व्यय की गयी। साथ ही खिलाड़ियों द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय खेलों में पदक अर्जित करने के फलस्वरूप 13 अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों, 183 राष्ट्रीय खिलाड़ियों एंव उनके 51 प्रशिक्षकों को नगद पुरस्कार के रूप में रू0 5.50 करोड़ धनराशि प्रदान कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद मुनि ,रामकृष्ण मिशन के डॉ दयानंद पंदा, जया चतुर्वेदी, केके तलवार, निदेशक खेल जितेंद्र कुमार सोनकर सहित कई अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *